Team Spirit and Personality Development

Team Spirit and Personality Development organize by Delhi Arya Pratinidhi Sabha

16 Sep 2017
India
Delhi Arya Pratinidhi Sabha

दिल्ली आर्य प्रतिनिधि सभा का प्रयास है कि सभी सहयोगियों के साथ ही सभा एवं सहायक संस्थाओं के कार्यकर्ता आपस में परिचय प्राप्त कर सकें कि कौन व्यक्ति किस जिम्मेदारियों को पूर्ण कर रहा है और एक टीम के रूप में कार्य करने का जो लाभ होना चाहिए उस दिशा में हम और आगे कैसे बढ़ें। इन सहायक संगठनों के सदस्यों को आधुनिक तौर-तरीकों से अवगत कराने तथा टीम भावना को मजबूत करके उनकी योग्यता को बढ़ाने और उनके व्यक्तित्व विकास की दिशा में कार्य करने के प्रयासों को और सुदृढ़ बनाने के उद्देश्य से दिल्ली आर्य प्रतिनिधि सभा, दयानन्द सेवाश्रमसंघ के कर्मचारियों व आर्य समाज औचन्दी एवं दीवानचन्द स्मारक गोकुल चन्द आर्य धर्मार्थ चिकित्सालय, अधिकारियों के बीच 16 सितम्बर को आर्य समाज 15 हनुमान रोड, प्रेक्षागार में एक कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसका विषय था, ‘‘टीम भावना एवं व्यक्तित्व विकास’’।

कार्यशाला का संचालन श्री हर्षप्रिय आर्य (चीफ जनरल मैनेजर जे.बी.एम. ग्रुप गुड़गांव) एवं श्रीमती अन्नु बासुदेव (डायरेक्टर, स्कूल) ने किया। कार्यशाला में दिल्ली की अधिकांश आर्य संस्थाओं के पदाधिकारी केन्द्रीय आर्य प्रतिनिधि सभा के प्रधान महाशय धर्मपाल जी ;चेयरमैन एम.डी.एच. ग्रुपद्ध एवं दिल्ली आर्य प्रतिनिधि सभा प्रधान श्री धर्मपाल आर्य, महामंत्री श्री विनय आर्य, आर्य विद्या परिषद प्रस्तोता श्री सुरेन्द्र रैली जी ने समस्त कर्मचारियों का आह्वान करते हुए कहा कि ‘‘आप चाहें कि अधिकारी लोग सब कर लेंगे ऐसा नहीं है आपके सहयोग के बिना कोई कार्य नहीं हो सकता। इस हेतु संस्था को अपना समझकर कार्य करना चाहिए और सभा के प्रति जिम्मेदार व वफादार रहना होगा। सिर्फ इतना ही नहीं आपको निष्पक्षता के साथ भी कार्य करना होगा और संस्था की मूलभूत चीजें ज्ञात होनी चाहिए। आप बड़े खुशकिस्मत हैं कि आप एक ऐसी संस्था के साथ जुड़े हैं जो देश व समाज में परिवर्तन लाना चाहती है।’’ 

महाशय धर्मपाल जी ने गायत्री मंत्र पाठ के उपरान्त कर्मचारियों एवं पदाधिकारियों को सम्बोधित करते हुए अपने उद्बोधन में कहा कि ‘‘आज आप सबके साथ बैठकर हमें बहुत प्रसन्नता हो रही है। हमें किसी को छोटा-बड़ा नहीं समझना चाहिए। अपने कार्य को जिम्मेदारी और मन लगाकर करना चाहिए। संध्या और हवन जरूर सीखें। एक दिन हम और आप एक साथ बैठकर संध्या हवन करें। आप सब आपस में जुड कर आर्य समाज का कार्य आगे बढ़ाते रहें। मेरा तन-मन-धन सब सभा को अर्पित है।’’

महामंत्री श्री विनय आर्य ने दिल्ली आर्य प्रतिनिधि सभा, दयानन्द सेवाश्रमसंघ एवं आर्य समाज औचन्दी एवं दीवानचन्द स्मारक गोकुल चन्द आर्य धर्मार्थ चिकित्सालय के समस्त कर्मचारियों का महाशय जी एवं अनेक आर्य समाजों से आये पदाधिकारियों से परिचय कराया। संचालक श्री हर्षप्रिय आर्य ने समस्त कर्मचारियों को कार्यकुशलता के छोटे-छोटे टिप्स बताए व आपस में मेल मिलाप के साथ कैसे कार्य करें पर प्रकाश डाला। श्रीमती अन्नू बासुदेव ने बिगड़े कार्यों को सुधारने, किसी का मन व विश्वास जीतने के तरीके को कुछ प्रतियोगिता के माध्यम से समझाया गया। सभा पदाधिकारियां  द्वारा सबसे अधिक आयु व सबसे कम आयु के युवा को पौधा भेंट कर सम्मानित किया गया। शान्ति पाठ व जलपान के साथ कार्यशाला खुशनुमा माहौल में सम्पन्न हुई।

-एस.पी.सिंह

 

Abhinandan Samaroh

Sangeetmay Ved Katha