Samvardhaks take Blessings from Mahashay ji on Holi

All Samvardhaks reached the Office of Mahashay Ji at Kirti Nagar to greet him on Holi

08 Mar 2020
Delhi, India
Delhi Arya Pratinidhi Sabha

वैदिक संस्कृति के पोषक स्वामी दयानंद सरस्वती के अनन्य भक्त, लाखों दिलों के हृदय सम्राट, युवाओं के प्रेरणा स्रोत, पद्मभूषण महाशय धर्मपाल जी के अथक प्रयास से संचालित महाशय धर्मपाल वैदिक धर्म प्रचारक प्रकल्प योजना के अंतर्गत प्रशिक्षित संवर्धक प्रथम ग्रुप जिसमें -सर्वश्री शैलकुमार आर्य, राजवीर शास्त्री, सत्यम आर्य, दिनेश आर्य, धर्मवीर आर्य, लक्ष्य आर्य, कारन आर्य, आशीष आर्य, मोहित आर्य, रविवार दिनांक 8 मार्च को सायं 3:30 बजे वैदिक होली पर्व के उपलक्ष्य पर हार्दिक शुभकामनाएं प्रेषित करने के लिये महाशय जी के एमडीएच ऑफिस कीर्ति नगर में उपस्थित हुए l गायत्री मंत्र एवं वेद मंत्रों से महाशय जी के जीवन की दीर्घायु की कामना करते हुए सभी संवर्धकों ने महाशय जी से शुभाशीष प्राप्त किया. दिल्ली में कार्य कर रहे संवर्धकों ने अपने अपने क्षेत्र की कार्यप्रणाली का संक्षिप्त विवरण प्रस्तुत किया। दिल्ली क्षेत्र में संचालित हो रही सभी आर्य समाजो में, दिल्ली सभा की संचालित विभिन्न योजनाओं को लेकर नई उमंग से कार्य करने की प्रेरणा ली, साथ ही श्री राजवीर शास्त्री जी ने ईश्वर भक्ति के भजन की प्रस्तुति व श्री दिनेश आर्य ने स्वयं रचित गीत की सुंदर प्रस्तुति दी, इससे पूर्व श्री विनय आर्य महामंत्री दिल्ली आर्य प्रतिनिधि सभा ने सभी संवर्धकों का महाशय जी से परिचय करते हुए बताया कि किस प्रकार ये सभी संवर्धक आर्य समाज को गति देने के कार्यों में प्रयास कर रहे है। कर्यों का विवरण सुनने के उपरांत महाशय जी को अत्यंत प्रसन्नता हुई कि कार्य ठीक प्रकार से संचालित है। इस मौके पर दयानंद सेवा आश्रम संग के स्कूलों की डायरेक्टर श्रीमती अनु वासुदेव जी एवं महाशय धर्मपाल विद्या निकेतन, बामनिया के प्रिंसिपल प्रवीन आत्रे जी की गरिमामय उपस्थिति में ऋषि दयानंद के मिशन को और अधिक गति देने का आशीर्वाद महाशय जी से सभी को प्राप्त हुआ. साथ ही कहा कि मनुष्य निस्वार्थ भाव से कर्म करते हुए ही अपने जीवन को सार्थक कर सकता है. इस मंत्र को महाशय जी ने आत्मसात करने की प्रेरणा देते हुए सभी को आशीर्वाद एवं शुभकामनाएं दी l अंत मे सभी संवर्धकों ने महाशय जी को होली की शुभकामनाएं दी।

Development of children in Balwadis

Vedic Literature promoted in Surat Book Fair