International Arya Mahasammelan confirm in Mayanmar (Burma)

International Arya Mahasammelan confirm in Mayanmar (Burma)

01 Jun 2017
Mandalay, Myanmar
Sarvadeshik Arya Pratinidhi Sabha

विगत 2006 से प्रतिवर्ष अन्तर्राष्ट्रीय आर्य महासम्मेलन करने की घोषणा दिल्ली में आयोजित आर्य सम्मेलन में की थी। उस घोषणा के अनुसार 11वॉं महासम्मेलन बर्मा में आगामी 6, 7, 8 अक्टूबर 2017 को सम्पन्न होने जा रहा है। 

  इस सन्दर्भ में सभा प्रधान श्री सुरेशचन्द्रजी आर्य के साथ अन्य पदाधिकारी विगत वर्ष 2016 में म्यामा गए थे। उस समय शहरी और ग्रामीण क्षेत्र की लगभग 15 आर्य समाजों में जाकर सम्पर्क किया था सम्मेलन की चर्चा भी हुई थी। 

  बर्मा में पहले भी आर्य समाज की गतिविधियॉं विद्यालय, अनाथालय, सत्संग संचालित होते थे। बर्मा में लगभग प्रत्येक बड़े शहर में जैसे रंगून, माण्डले, लाशियो, मिचिना, मोगोग, जियावाड़ी में भव्य भवन बने हुए हैं। रंगून की आर्य समाज की स्थापना 1899 में हुई थी। उसी प्रकार माण्डले आर्य समाज 1895 में बनी जिसमें नेताजी सुभाषचन्द्र बोस भी आते रहे हैं। माण्डले में ही नेताजी सुभाषचन्द्र बोस व बाल गंगाधर तिलक, लाला लाजपत राय को गिरफ्तार कर बन्दी बनाया था। आज भी वह किला और जेल जिसकी चारों ओर से 12 कि. मीटर के घेरे में गहरा पानी भरा है वह ऐतिहासिक स्थान है। 

इस समय बर्मा में लगभग 30-32 आर्य समाजें हैं हजारों व्यक्ति आर्य समाज से जुड़े हैं। भारत का निरन्तर सम्पर्क न होने से तथा बीच में मिलेट्री शासन होने से प्रचार प्रसार रूक गया था। किन्तु पुनः विदेशों में बढ़ते प्रचार प्रसार से एक नवस्फर्ति का संचार हुआ है। 

   दिल्ली में आयोजित सन् 2012 के आर्य महासम्मेलन में ही बर्मा से आए आर्यजनों ने सम्मेलन की घोषणा की थी। 

  इसी उद्देश्य से मैं तथा श्री विनय आर्य 13 मई से 18 मई तक बर्मा में रहे। वहॉं अनेक व्यक्तियों से सम्पर्क किया, वैदिक सैद्धान्तिक चर्चा एवं आर्य समाज के संबंध में जानकारी दी, बैठकें ली। 

   बर्मा प्रान्तीय सभा के प्रधान श्री अशोक खेत्रपाल, मन्त्री पवनजी, माण्डले समाज के प्रधान विशेष नरोला, मन्त्री सन्दीप खेत्रपाल, सभा के उपाध्यक्ष प्रदीप गुलाटी, प्रान्त के अनेक कार्यकर्ताओं ने सम्मेलन को सफल बनाने की योजना बनाई। 

सम्मेलन लाशियों में स्थित एक विशाल सनातन मन्दिर शंखाई में करने का निर्णय लिया। कार्यक्रम स्थल तक अत्यन्त मनोहर प्राकृतिक दृश्य यात्री को आकर्षित करता है। 

शीघ्र ही इस संबंध में पूर्ण कार्यक्रम व योजना बनाकर प्रकाशित की जावेगी। 

   (प्रकाश आर्य)

         सभामन्त्री

 सार्वदेशिक आर्य प्रतिनिधि सभा, दिल्ली

 

Four Vedas set gifted to Arya Vidwan Acharya Agnimitra Shastri

Shri Tejpal Dhama honored with Sanskriti Manishi Samman